Skip to main content

चंद्र ग्रहण कब होता है और सूर्य ग्रहण कब होता है

 Hello friends आज हम बात करने वाले हैं सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण के बारेमें आप में से काफी ज्यादा लगों को पता नहीं होगा कि चंद्र ग्रहण कब होता है और सूर्य ग्रहण कब होता है।

 

आपने कई सुना होंगा की सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण के बारेमे लेकिन आप में कुछ लोगो को ही इसके बारेमें पूरी जानकारी होंगी इसलिए आज हम आपको उसकी पूरी डिटेल्स देने वाले है।


तो इसलिए आज हम इस टॉपिक पर विस्तार से बताएंगे कि सूर्य ग्रहण कब होता है और चंद्र ग्रहण कब होता है।


सूर्य ग्रहण कब होता है

सबसे पहले तुम बात करते हैं सूर्य ग्रहण के बारेमें सूर्य और पृथ्वी के बीच में चंद्रमा जाता है तब चंद्र के पीछे सूर्य का बीब सूप जाता है इस पुरी घटना को हम सूर्य ग्रहण के नाम से जानते हैं।

when does solar eclipse happen
चंद्र ग्रहण कब होता है और सूर्य ग्रहण कब होता है




पूर्ण सूर्य ग्रहण क्या होता है?

ऐसा होता है कि चंद्र सूर्य का कुछ इच्छा ही ढक पाता है और यह घटना को हम खण्ड-ग्रहण कहते हैं। कभी-कभी ऐसा होता है कि चांद सूर्य के सारे हिस्से को तब देता है और इस घटना को हम पूर्ण ग्रहण कहते हैं। 

पूर्ण ग्रहण धरती पर कुछ ही क्षेत्रो में देखा जाता है लगभग 250 किलोमिटर के दायरे में देखा जाता है बाकी के हिस्सों में खण्ड-ग्रहण ही देखा जाता है।



सूर्य ग्रहण के प्रकार

अब हम बात करते हैं सूर्य ग्रहण के कितने प्रकार होते हैं। सूर्य ग्रहण तीन प्रकार के होते हैं। 1. पूर्ण सूर्य ग्रहण 2. आंशिक सूर्य ग्रहण 3. वलयाकार सूर्य ग्रहण ।

1. पूर्ण सूर्य ग्रहण

जैसा कि हमने पहले बताया कि चंद्रमा सूर्य का काफी हिस्से को ढक देता है तब पूर्ण सूर्य ग्रहण कहलाता है। इस समय चंद्र पृथ्वी की काफी नजदीक होता है। जब चंद्र पृथ्वी के नजदीक रहता है और सूर्य और पृथ्वी के बीच में आ जाता है तो सूर्य प्रकाश पूरी तरह से पृथ्वी पर नहीं पहुंच पाता है। इसलिए  हम इसको पूर्ण सूर्य ग्रहण करते हैं।

2. आंशिक सूर्य ग्रहण

आंशिक सूर्यग्रहण तब कहलाता हैं जब चंद्र पृथ्वी और सूर्य के बीच आ जाता है लेकिन आंशिक रूप में सूर्य प्रकाश पृथ्वी पर पहुंच जाता है। मतलब की चंद्र सूर्य के कुछ हिस्से को ढक पता है इस घटना को आंशिक सूर्य ग्रहण कहते है। 


3. वलयाकार सूर्य ग्रहण

वलयाकार सूर्य ग्रहण में चंद्रमा पृथ्वी से काफी दूर रहते हुए भी पृथ्वी और सूर्य के बीच आ जाते हैं । जब  चंद्र सूर्य को इस प्रकार से ढकता है कि सूर्य का सिर्फ मध्य भाग ही छाया क्षेत्र में आता है और पृथ्वी पर से देखते समय सूर्य पुरी तरह से ढका नही दिखाई देता है और सूर्य के बाहर का हिस्सा कुछ इस तरह से प्रकाशित होता है कि कंगन आकार का दिखाई देता है इस घटना को वलयाकार सूर्यग्रहण कहते हैं।



चंद्र ग्रहण

अब हम बात करते हैं चंद्र ग्रहण के बारेमें तो चंद्र ग्रहण कब होता है जब चंद्रमा पृथ्वी के छाया में चला जाता है । चंद्र ग्रहण को पृथ्वी के रात के समय पर किसी भी क्षेत्र में से देखा जा सकता है।

चंद्रग्रहण के प्रकार


types of lunar eclipse
चंद्र ग्रहण



चंद्र ग्रहण के चार प्रकार हैं 1. पेनुमब्रल चंद्र ग्रहण 2. आंशिक चंद्रग्रहण 3.पूर्ण चंद्र ग्रहण  4.केंद्रीय चंद्रग्रहण

1.पेनुमब्रल चंद्र ग्रहण

पेनुमब्रल चंद्र ग्रहण तब होता है जब पृथ्वी पेनम्ब्रा से गुजरती है। पेनम्ब्रा चंद्र सतह के सूक्ष्म धुंधलापत का कारण है।

2.आंशिक चंद्रग्रहण
आंशिक चंद्रग्रहण कब होता है जब चंद्रमा का कुश हिस्सा पृथ्वी के गर्भ में प्रवेश करता है। तब चंद्रमा की कक्षीय गति लगभग १.०३  किमी प्रति सेकेंड की या  व्यास की प्रति 

3.पूर्ण चंद्रग्रहण

चंद्रमा पुरीतरह से पृथ्वी के गर्भ में प्रवेश करता है तब पूर्ण चंद्रग्रहण कहलाता हैं। जब गर्भ में पूर्ण प्रवेश के पहले चंद्र का किनारा सूर्य प्रकाश से प्रभावित होता है। 


4.केंद्रीय चंद्रग्रहण
 केंद्रीय ग्रहण एक पूर्ण चंद्र ग्रहण है। इसके दौरान चंद्रमां पृथ्वी के छाया के केंद्र से होकर गुजारती है जो की सौर विरुद्ध बिंदु कॉन्टेंक होता है और इसे हम केंद्रीय चंद्रग्रहण कहते    है।

तो दोस्तो आपको  कैसी लगी जानकारी । और क्या आपको पहले से इसके बारेमें पता था हमे कॉमेंट करके बताए।

read more



Comments

Popular posts from this blog

Choota Bheem Cartoon Real Voice In Hindi

  हेल्लो दोस्तों आज हम बात करने वाले है Chhota Bheem Cartoon के बारे मे बच्चो को पसंद आने वाले कार्टून में सबसे ज्यादा भारत में देखे जाने वाले कार्टून में से एक है छोटा भीम कार्टून। आपने कभी न कभी तो Chhota Bheem Cartoon देखा ही होंगा लेकिन क्या आपको पता है की वह जो कार्टून आप देखते हो इसकी असली आवाज कोन निकलता है?  अगर नहीं तो आज हम आपको उसके बारे मे ही आपको जानकारी देने वाले है। All Characters Original Voice of Chhota Bheem in Hindi Choota Bheem real Voice तो दोस्तो आज हम आपको अच्छी तरह से बताने वाले है की  आप जो ये सब कार्टून देखते हो उसकी रियल आवाज कोन निकाल ता है उसके नाम आज आपको बताएंगे। सबसे पहले और जो की इस कार्टून में मुख्य रोल निभाने वाले Chhota Bheem यानी की Bheem की बात करे तो इसकी आवाज SONAL KAUSHAL ने दी हुई है। अब बात करते हैं इस कार्टून में निडर कार्टून और थोड़ा सा मस्तीखोर और थोड़ा सा सरारती कार्टून राजू। इस कार्टून में राजू की आवाज JULEY TEJWANI ने दी हुई है। अब बात करते है इस कार्टून सीरीज में एक होशियार लड़की यानी कि छुटकी के बारे में। आपको नहीं पता तो बता दे की इस

History of Bharat Ratna Award and list of Recipients of Bharat Ratna - GYANI MOHAN

 History of Bharat Ratna Award and list of recipients of Bharat Ratna हेल्लो दोस्तों स्वागत है आपका  GYANIMOHAN.COM  पर। आज हम भारत रत्न अवॉड के बारेमे  बात करने वाले है। भारत देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान अवॉड किसे दिया जाता है , इसकी स्थापना कब हुई और अभी तक कितने लोगो को यह पुरस्कार मिला है उसके बारेमे आज हम बात करने वाले है।  भारत रत्न की स्थापना कब हुई और किसे दिया जाता है ? सबसे पहले आपको बता दे भारत देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान अवॉड की स्थापना वर्ष 1954 की गई थी। और यह पुरस्कार किसे दिया जाता है उसकी बात करे तो जाति, व्यवसाय, पद या लिंग के भेद के बिना कोई भी व्यक्ति इस पुरस्कार लिए पात्र है।  यह पुरस्कार राष्ट्रीय सेवा के लिए दिया जाता है। इन सेवा में सार्वजानिक सेवा , कला , साहित्य , विज्ञान और खेल भी शामिल है। इस पुरस्कार की स्थापना तभी के राष्ट्रपति श्री राजेन्द्र प्रसाद द्वारा 2 जनवरी 1954 दिन की गयी थी।  Bharat Ratna Award About the design of Bharat Ratna Award  मूल रूप में इस पुरस्कार की डिजाइन 35 मिमि का स्वर्ण मैडल दिया जाता था। जिसके सामने सूर्य बना हुआ और ऊपर हिंदी भा